test
Home Uncategorized

Uncategorized

ज्योतिषाचार्य पंडित दयानन्द शास्त्री ने बताया कि मलमाल में 160 वर्ष बाद ऐसा शुभ संयोग बन रहा है और इसके बाद ऐसा शुभ मलमास 2039 में आएगा। इस वर्ष अधिक मास में 15 दिन शुभ योग रहेगा। अधिक मास के दौरान सर्वार्थ सिद्धि योग 9 दिन, द्विपुष्कर योग 2 दिन, अमृत सिद्धि योग 1 दिन और पुष्य नक्षत्र का योग...
हर साल 17 सितंबर को मनाई जाती है, इसे विश्वकर्मा पूजा के नाम से भी जानते हैं. लेकिन इस बार विश्वकर्मा पूजा 16 सितंबर को की जाएगी। यह रहेगा श्री विश्वकर्मा पूजन का शुभ मुहूर्त 16 सितंबर, बुधवार – सुबह 10 बजकर 09 मिनट से लेकर 11 बजकर 37 मिनट तक। हिन्दू पंचांग के मुताबिक आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी...
कंगना रानौत बॉलीवुड की प्रसिद्ध अभिनेत्री है। इन्होने बॉलीवुड की कई प्रसिद्ध फिल्मों में काम किया है। ये बॉलीवुड में फैशनेबल हस्तियों में से एक मानी जाती है। इन्हें अपनी फिस्म के लिये कई पुरस्कार भी जीते है। आज इनकी कुड़ली में एक नजर डालते हैं। कंगना का जन्म 23 मार्च, 1987 में  हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में...
आयुष्मान खुराना एक टेलीविजन एंकर, फ़िल्म अभिनेता और गायक हैं। आयुष्मान खुराना का जन्म 14 सितम्बर 1984 को सुबह 6 बजे चंडीगढ़ में जन्म हुआ था। उनका जन्म सिंह लग्न एवम मेष राशि बनती हैं । चन्द्रमा भाग्य स्थान में स्थित हैं। उनका जन्म नक्षत्र अश्विनी है, तृतीय चरण। सिंह लग्न में सूर्य बुध की युति। पंचम भाव मे...
करीना कपूर/खान का जन्म 21 सितंबर 1980 को मुंबई में दिन में दोपहर करीब 3 बजे हुआ है। यदि यह समय सही है है तो इनकी राशि और लग्न दोनों ही मकर हैं। उनका जन्म नक्षत्र श्रावण के चतुर्थ चरण का है। वैदिक ज्योतिष अनुसार मकर राशि के पुरुष आकर्षक होते हैं और महिलाएं सुंदर होती हैं। करीना की...
सुरभी का जन्म 11 सितम्बर 1989 को सुबह 8 बजे, जालंधर, पंजाब में हुआ हैं। इनका जन्म लग्न कन्या, जन्म राशि धनु, जन्म नक्षत्र पूर्वाषाढ़ा का चौथा चरण हैं। वर्तमान में राहु की विंशोत्तरी महादशा चल रही है 2031 तक। वर्तमान अंतरदशा शनि की दिसम्बर 2020 तक रहेगी। वैसे सुरभि नाम से कुम्भ राशि बनती हैं । सुरभि ने...
हिंदू धर्म में प्रत्‍येक मास में कुछ ऐसी महत्‍वपूर्ण तारीख होती हैं जो पूजापाठ और व्रत करने के लिए बेहद महत्‍वपूर्ण मानी जाती है। इन्‍हीं में से एक होता है प्रदोष व्रत। आश्विन मास के कृष्‍ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत के रूप में भी जाना जाता है। इस दिन ही भौम प्रदोष का व्रत रखा जाता है...
भारतीय संस्कृति में विवाह को एक ऐसा संस्कार माना गया है जिसे दो आत्माओं का बंधन कहा जाता है। कई बार ज्योतिष, वास्तु के दोष और अनेक कारणों से विवाह में बाधाएं आती हैं। तब उन कारणों का निवारण जरूरी हो जाता है, क्योंकि एक उम्र के बाद विवाह न होने पर इसमें काफी दिक्कतें आ सकती हैं। ज्योतिषाचार्य पण्डित...
प्रिय पाठकों/मित्रों/दर्शकों, हम सभी जानते हैं कि यज्ञ - हवन आदि में आहुति देते समय मंत्र के अंत में स्वाहा का उच्चारण किया जाता है। स्वाहा की उत्पत्ति भगवान ने देवताओं को आहार प्रदान करने के लिए की थी। पितृपक्ष के शुरू होने से पहले मैंने आपको पितृ तर्पण का एक मंत्र बताया था जिसमें स्वधा शब्द आया। स्वधा कौन...
आजकल परफ्यूम, इत्र, डीओ आदि की गिनती उन चीज़ों में की जाती है जिसके बिना आज कल के युवा पीढ़ी का रहना मुश्किल हो गया है। परंतु क्या आप जानते हैं कि इसका हिंदू व ज्योतिष शास्त्र में उपयोग अधिक लाभदायक बताया गया है। जी हां, हिंदू धर्म व ज्योतिष शास्त्र में सुगंध व खुशबू का बहुत महत्व माना गया...

प्रख्यात लेख

मेरी पसंदीदा रचनायें

error: Content is protected !!