LATEST ARTICLES

वास्तु शास्त्र का मानव जीवन में महत्त्व एवं प्रभाव -------   वास्तुशास्त्र जीवन के संतुलन का प्रतिपादन करता है। यह संतुलन बिगड़ते ही मानव एकाकी और समग्र रूप से कई प्रकार की कठिनाइयों और समस्याओं का शिकार हो जाता है। वास्तुशास्त्र के अनुसार पंचमहाभूतों- पृथ्वी ,जल , वायु , अग्नि और आकाश के विधिवत उपयोग से बने आवास में पंचतत्व से...
आइये जाने  शुक्र  ग्रह का पुराणों व ज्योतिष शास्त्र में महत्त्व,प्रभाव एवं उपाय-----   आइये जाने शुक्र  ग्रह को-----   ज्योतिष शास्त्र में नौ ग्रह बताए गए हैं। यही नौ ग्रह हमारे भाग्य या किस्मत का निर्धारण करते हैं। यह नौ ग्रह हैं सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु और केतु। विज्ञान में इन ग्रहों के संबंध में अलग जानकारी दी...
#### शुभ दीपावली #### (पंडित दयानंद शास्त्री"अंजाना ") किसी के भी घर में दुखों का डेरा न रहे, आओ रोशनी बातें कहीं अँधेरा न रहे ! कही भी अज्ञान का अँधेरा न रहे ! "अंजाना"कही भी अभाव  का प्रभाव  ना रहे !सभी की सारी मनोकामनाएं पूरी हो ! हर बच्चे के चेहरे पर हसी और त्यौहार का उत्साह हो ! हर बड़े की आखों में आशीर्बाद का भाव हो! हर किसान की...
2012 में कब और केसे करें दिपावली पूजन ???आइये जाने शुभ मुहूर्त??? दीपावली -- हिन्दुओ के लिए दीपावली पर्व का बहुत अधिक महत्त्व हैं |समस्त भारत में और विदेशो में भी जहा भारतीय मूल के लोग रहते हैं |वहा यह त्यौहार हर्षौल्लास के साथ मनाया जाता हैं |इस दिन लोग श्रद्धा और विश्वास के साथ लक्ष्मी ,गणेश और सरस्वती का पूजन करते हैं...
सभी सम्माननिय मित्र बंधूवर और आपके परिजनों को दीपावली,गोवर्धन पूजा भाई दूज की बहुत बहुत शुभकामनाये. माँ लक्ष्मी जी आप सभी के लिए सुख-शांति,समाधान,ऐश्वर्य और उन्नतिपूर्ण हो. आपका स्नेह और सहयोग हमारे साथ दिन प्रतिदिन बढ़ता रहे आपको लक्ष्मी पूजा पर ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें आप लगातार प्रगति के पथ पर अग्रसर रहे.... यही कामना है जय श्री...
जालंधर में 50 वां स्वर्ण जयंती राष्ट्रीय ज्योतिष वास्तु महासम्मेलन का आयोजन -- दिनांक---21 -22 -23 दिसंबर,2012 ( शुक्रवार-शनिवार-रविवार) स्थान---जल विलास पेलेस, वर्कशाप चोक, जालंधर(पंजाब) विस्तृत विवरण---आगामी 21 -22 -23 दिसंबर.2012 को अखिल भारतीय सरस्वती ज्योतिष मंच एवं अखिल भारतीय ज्योतिष संस्था संघ के संयुक्त तत्वाधान में एक ------तीन दिवसीय राष्टीय ज्योतिष वास्तु सम्मलेन का आयोजन किया जा रहा हें .. -----इस आयोजन में...
संतान दोष : जानिए ज्योतिषीय कारण और  उपाय/निवारण----- हर विवाहित स्त्री चाहती हैं कि उसका भी कोई अपना हो जो उसे मां कहकर पुकारे। सामान्यत: अधिकांश महिलाएं भाग्यशाली होती हैं जिन्हें यह सुख प्राप्त हो जाता है। फिर भी काफी महिलाएं ऐसी हैं जो मां बनने के सुख से वंचित हैं। यदि पति-पत्नी दोनों ही स्वास्थ्य की दृष्टि से उत्तम हैं...
वास्तु दोष निवारण के लाभकारी/प्रभावी उपाय--   सभी प्राणियों के जीवन में वास्तु का बहुत महत्व होता है। तथा जाने व अनजाने में वास्तु की उपयोगिता का प्रयोग भलीभांति करके अपने जीवन को सुगम बनाने का प्रयास करते रहतें है। प्रकृति द्वारा सभी प्राणियों को भिन्न-भिन्‍न रूपों में ऊर्जायें प्राप्त होती रहती है। इनमें कुछ प्राणियों के जीवन चक्र के अनुकूल...
इन वास्तु उपायों/उपचार से होगा लक्ष्मी आगमन ----   हम सभी जानते हैं कि क्रिया की प्रतिक्रिया और प्रतिक्रिया की भी कोई न कोई क्रिया अवश्य होती है। इन्हीं क्रियाओं और प्रतिक्रियाओं का अहितीय उदाहरण हमारा ब्रह्माण्ड है। ब्रह्माण्ड में स्थित उर्जायें चाहे वह गुरूत्वाकर्षणीय, चुम्बकीय, विद्युतीय हो या ध्वनि घर्षण, गर्जन, भूकंपीय, चक्रवात इत्यादि हो सदैव सक्रिय रहती हैं। उर्जाओं...
मित्रों, में (पंडित दयानन्द शास्त्री आगामी सात एवं आठ सितम्बर,2012 को में इन्दोर(मध्यप्रदेश) में रहूँगा... उसके बाद नो सितम्बर से बारह सितम्बर (09 -12 ,)तक ओरंगाबाद(महाराष्ट्र) में आयोजित ज्योतिष -वास्तु ,साधना  प्रशिक्षण शिविर में भाग लूँगा.. .इसका आयोजन विश्व प्रसिद्द शनि साधिका विभाश्री द्वारा किया जा रहा हें--- स्थान--बड़ा शनि मंदिर,एन-02 ,सिडको के पास,ओरंगाबाद... समय- सायंकाल चार बजे से रात्रि आठ बजे तक.. श्री शनि आश्रम पहुँचाने...
जय गणेश जय गणेश देवा .... माता पार्वती पिता महादेव... " ... वक्रतुंड महाकाय कोटिसूर्यसमप्रभ । निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा ॥ श्री गणेश चतुर्थी की हार्दिक मंगलकामनाएं .. जय श्री गणेश ..    ॐ गणपतये नमः॥ ॐ गणेश्वराय नमः॥ ॐ गणक्रीडाय नमः॥ ॐ गणनाथाय नमः॥ ॐ गणाधिपाय नमः॥ ॐ एकदंष्ट्राय नमः॥ ॐ वक्रतुण्डाय नमः॥ ॐ गजवक्त्राय नमः॥ ॐ मदोदराय नमः॥ ॐ लम्बोदराय नमः॥ ॐ धूम्रवर्णाय नमः॥...
मरता नहीं है प्यार --- ( पंडित दयानंद शास्त्री) प्यार नहीं मरता बस ! मारता है हर पल । अपने अहसासों से अपनी यादों से जलाता है रूह को परत दर परत पर रूह की जिल्द इतनी सख्त जलती नहीं फिर भी और प्यार नहीं मरता । आँखों के गर्म पानी को जज़्ब करता धुँए में उड़ाता हर लम्हे को पर वो लम्हा नहीं उड़ता प्यार नहीं मरता । तन्हाइयोँ में मारता है भीड़ में नोचता-कचोटता अस्तित्व को नकारता फिर...
पितृदोष कारण और निवारण ---(आचार्य वाघाराम परिहार)   परिवार में किसी व्यक्ति की मृत्यु के उपरांत परिवारजनों द्वारा जब उसकी इच्छाओं एवं उसके द्वाराछुटे अधुरे कार्यों को परिवारजनों द्वारा पुरा नही किया जाता। तब उसकी आत्मा वही भटकती रहती है एवं उन कार्यो को पुरा करवाने के लिए परिवारजनों पर दबाव डालती है। इसी कारणपरिवार में शुभ कार्यो में कमी एवं...
सफल लेखक बनाने के ज्योतिषी योग-- --------जन्मांग चक्र का तृतीय भाव बलवान हो, तृतीय भाव में कोई ग्रह बली होकर स्थित हो, तृतीयेश स्वराशि या उच्च राशि में हो तो जातक सफल लेखक होता हैं। --------किसी जातक के जीवन के बारे में जानकारी प्राप्त करने हेतु ज्योतिष शास्त्र में जन्मांग चक्र का अध्ययन कर बताया जा सकता हैं कि जातक का...
।। श्री गणपत्यथर्वशीर्ष ।। SHRI GANPATI  ATHARVSHIRSH     अथर्वशीर्ष की परम्परा में ‘गणपति अथर्वशीर्ष’ का विशेष महत्त्व है। प्रायः प्रत्येक मांगलिक कार्यों में गणपति-पूजन के अनन्तर प्रार्थना रुप में इसके पाठ की परम्परा है। यह भगवान् गणपति का वैदिक-स्तवन है। इसका पाठ करने वाला किसी प्रकार के विघ्न से बाधित न होता हुआ महापातकों से मुक्त हो जाता है। ।। श्री...
क्या शनि देव/दोष के कारण होता हें... उदर/पेट  रोग ???? ज्योतिष के अनुसार रोग विशेष की उत्पत्ति जातक के जन्म समय में किसी राशि एवं नक्षत्र विशेष पर पापग्रहों की उपस्थिति, उन पर पाप दृष्टि,पापग्रहों की राशि एवं नक्षत्र में उपस्थित होना, पापग्रह अधिष्ठित राशि के स्वामी द्वारा युति या दृष्टि रोग की संभावना को बताती है। इन रोगकारक ग्रहों...
कुछ सामान्य एवं प्रभावी उपाय जिनसे होंगे शनिकृत रोग दूर ----- 1- शनि मुद्रिका (शनिवार के दिन) शनि मंत्र का जाप करते हुये धारण करें। काले घोडे की नाल या नव की किल से बनी होनी चाहिए यह शनि मुद्रिका/अंगूठी...   ----- काले घोडे की नाल प्राप्त कर घर के मुख्य दरवाजे के ऊपर लगायें। 2 -बीसा यंत्र मे नीलम जडकर धारण करें। शनि यंत्र को शनिवार...
शनि को अनुकूल करने के सिद्ध उपाय----- (प्रतिकूल समय को अनुकूल कैसे करें..???) १. खाली पेट नाश्ते से पूर्व काली मिर्च चबाकर गुड़ या बताशे से खाएं. २. भोजन करते समय नमक कम होने पर काला नमक तथा मिर्च कम होने पर काली मिर्च का प्रयोग करें. ३. भोजन के उपरांत लोंग खाये. ४. शनिवार व मंगलवार को क्रोध न करें. ५. भोजन करते समय मौन रहें. ६. प्रत्येक शनिवार को सोते समय शरीर व नाखूनों पर तेल मसलें. ७. मॉस, मछली, मद्य तथा...
श्री शनि स्तोत्र - =========================================== शनि वज्र पञ्जर कवच---- शनि वज्र पञ्जर कवच विनियोगः- ॐ अस्य श्रीशनैश्चर-कवच-स्तोत्र-मन्त्रस्य कश्यप ऋषिः, अनुष्टुप् छन्द, शनैश्चरो देवता, शीं शक्तिः, शूं कीलकम्, शनैश्चर-प्रीत्यर्थं जपे विनियोगः।। नीलाम्बरो नीलवपुः किरीटी गृध्रस्थितस्त्रासकरो धनुष्मान्। चतुर्भुजः सूर्यसुतः प्रसन्नः सदा मम स्याद्वरदः प्रशान्तः।।१ ब्रह्मोवाच- श्रृणुषवमृषयः सर्वे शनिपीड़ाहरं महप्। कवचं शनिराजस्य सौरेरिदमनुत्तमम्।।२ कवचं देवतावासं वज्रपंजरसंज्ञकम्। शनैश्चरप्रीतिकरं सर्वसौभाग्यदायकम्।।३ ॐ श्रीशनैश्चरः पातु भालं मे सूर्यनंदनः। नेत्रे छायात्मजः पातु, पातु कर्णौ यमानुजः।।४ नासां वैवस्वतः पातु मुखं मे भास्करः सदा। स्निग्ध-कंठस्च मे...
भगवान ‍शनि के प्रमुख मंत्र (शनि का पूजन विशेष फलदायी)---- श्रीशनि आराधना के प्रमुख मंत्र व स्तोत्र---- यदि आप शनि देव की कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो आप यह छोटे-छोटे प्रयोग करें। इन प्रयोगों से शनि निश्चित ही आप पर प्रसन्न होंगे और आपको मनोवांछित फल प्रदान करेगा। ज्योतिष विज्ञान के अनुसार शनि की टेढ़ी नजर यानि वक्र दृष्टि हर व्यक्ति...
भवन निर्माण संबन्धी (वास्तु पद्धति/वास्तु सूत्र से  भवन निर्माण )वास्तु सूत्र-----   वास्तुमूर्तिः परमज्योतिः वास्तु देवो पराशिवः वास्तुदेवेषु सर्वेषाम वास्तुदेव्यम --समरांगण सूत्रधार, भवन निवेश वास्तुशास्त्र---अर्थात गृहनिर्माण की वह कला जो भवन में निवास कर्ताओं की विघ्नों, प्राकृतिक उत्पातों एवं उपद्रवों से रक्षा करती है. देवशिल्पी विश्वकर्मा द्वारा रचित इस भारतीय वास्तु शास्त्र का एकमात्र उदेश्य यही है कि गृहस्वामी को भवन शुभफल दे, उसे पुत्र-पौत्रादि,...
आइये जाने वास्तुजन्य दोष और उसके कारण होने वाले  संभावित रोग/बीमारियाँ -----   ------वास्तु - गृहनिर्माण की वह कला जो भवन में निवास कर्ताओं की विघ्नों, प्राकृतिक उत्पातों एवं उपद्रवों से रक्षा करती है. देवशिल्पी विश्वकर्मा द्वारा रचित इस भारतीय वास्तु शास्त्र का एकमात्र उदेश्य यही है कि गृहस्वामी को भवन शुभफल दे, उसे पुत्र-पौत्रादि, सुख-समृद्धि प्रदान कर लक्ष्मी एवं वैभव को बढाने वाला हो. ----इस विलक्षण...
आइये जाने की श्राद्ध क्या हें..??? श्राद्ध कब,क्यों एवं केसे करें..???   स्कंद पुराण के अनुसार पितरों और देवताओं की योनि ऐसी है कि वे दूर से कही हुई बातें सुन लेते हैं। दूर की पूजा भी ग्रहण कर लेते हैं और दूर से की गई स्तुति से भी संतुष्ट हो जाते हैं। देवता और पितर गंध तथा रस तृण से तृप्त होते...
आइये जाने शनि ग्रह को (पुराणों व ज्योतिष शास्त्र में)-----    इतिहास-पुराणों में शनि की महिमा बिखरी पड़ी है। ब्रह्मवैवर्त पुराण में कहा गया है कि गणेशजी का जन्म होने पर सभी ग्रह उनका दर्शन करने के लिए कैलाश पर्वत पर पहुँचे। जैसे ही शनि ने आख़िर में भगवान गणेश के चेहरे पर नज़र डाली, उनका मस्तक कट कर धरती पर गिर...
मेरा सप्रेम /सादर निवेदन/अपील/निवेदन/प्रार्थना..... ##  जेसा की आप सभी जानते हें की में समय-समय पर आप सभी की जानकारी के लिए/सूचनार्थ अपने फेसबुक वाल/स्टेटस के साथ साथ अपने ब्लोग्स एवं ऑरकुट तथा अन्य स्थानों पर भी निकट/आगामी भविष्य/समय में होने वाले ज्योतिष इवेंट्स/सम्मेलनों की प्रसारित/प्रकाशित करता रहता हूँ....उसका अनेक विद्वान् लाभ भी उठाते हें... अब परेशानी/समस्या यह हें.की अनेक भाग लेने के...
ने  को क्यों मानते हें तेजा दशमी  ..???? आइये जाने  को क्यों मानते हें तेजा दशमी  ..???? आइये जाने  को क्यों मानते हें तेजा दशमी  ..???? लोकदेवता के रूप में पूजनीय तेजाजी के निर्वाण दिवस भाद्रपद शुक्ल दशमी को प्रतिवर्ष तेजादशमी के रूप में मनाया जाता है। लोग व्रत रखते हैं। प्रतिवर्ष भाद्रपद शुक्ल 10 (तेजा दशमी) से पूर्णिमा तक तेजाजी के विशाल...
आइये जाने की क्या हें डोल ग्यारस (जलझूलनी एकादशी) ..????   आज डोल ग्यारस (जलझूलनी एकादशी) है। आज मेरे जन्म-नगर झालरापाटन में, जो अब राजस्थान के दक्षिणी पश्चिमी क्षेत्र का मध्यप्रदेश से सटा एक सीमावर्ती नगर है, एक पखवाड़े पूर्व ही इस आयोजन की योजना/ तय्यरियाँ शुरु हो जाती है। यूँ तो इस आयोजन का अनौपचारिक आरंभ एक दिन पहले तेजादशमी पर...
आइये जाने विवाह के बारे में सब कुछ...उपाय/टोटके...कब होगा??? कुंडली मिलन क्यों..???कितने गुण मिलेंगे???आपकी राशी अनुसार किस देवता का करें पूजन..??? ----क्या आप जानते हें की शादी/विवाह  के लिए कौन से देवता की पूजा करनी चाहिए? समय पर अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करने की इच्छा के कारण माता-पिता व भावी वर-वधू भी चाहते है कि अनुकुल समय पर ही विवाह हो...
आज रात्रि को होगा दुर्लभ कालसर्प योग-(षडय़ंत्र या कुछ गोपनीय बातें सामने आने के योग -)------- आज शनिवार, 16 जून,2012 की रात 10 बजे सारे ग्रह राहु और केतु के बीच में आ जाएंगे। जिससे सैकड़ों साल बाद अद्भुत दुर्लभ कालसर्प योग बनेगा। ग्रहों की यह स्थिति 1 जुलाई तक रहेगी। इसी दौरान 26 जून को शनि भी अपनी चाल बदलेगा। ये घटना...
आइये जाने थैलेसीमिया रोग के कारण ( चिकित्सा एवं ज्योतिष की नजर से)--- थैलेसीमिया एक आनुवशिक रक्त विकार है। इस रोग में रोगी के शरीर में हीमोग्लोबिन सामान्य स्तर से कम हो जाता है। गौरतलब है कि शरीर में ऑक्सीजन का सुचारु रूप से सचार करने के लिए हीमोग्लोबिन की जरूरत होती है। लाल रक्त कोशिकाओं की विकृति रक्त की लाल कोशिकाओं...
अशुभ होता हें देर तक सोना तथा स्वास्थ्य को भी करता हें ख़राब--- शास्त्रों के अनुसार सूर्योदय के समय और दिन में सोने से आयु कम होती है। जो लोग इस बात का ध्यान नहीं रखते हैं वे कई स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना करते हैं। जो लोग सूर्योदय से पहले उठ जाते हैं उन्हें कई प्रकार के पुण्य लाभ प्राप्त होते हैं।...
जानिए की नारियल के प्रयोग द्वारा केसे करें अपनी सभी परेशानियों का निदान---- जेसा की आप सभी जानते हें की नारियल एक ऐसी वस्तु है जो कि किसी भी सात्त्विक अनुष्ठान, सात्त्विक पूजा, धार्मिक कृत्यों तथा हरेक मांगलिक कार्यों के लिये सबसे अधिक महत्वपूर्ण सामग्री  है. इसकी कुछ विभिन्न विधियों द्वारा हम अपने पारिवारिक, दाम्पत्य तथा आर्थिक परेशानियों से निजात पा सकते...
कब होगा नौकरी में प्रमोशन या व्यवसाय में उन्नति ..??? मेरे पास आने वाले अधिकांश जातकों का प्रश्न होता है कि उन्हें व्यवसाय अथवा सर्विस में प्रमोशन कब मिलेगा? कुछ व्यक्तियों को अत्यधिक परिश्रम के बाद आशा के अनुरुप सफलता नहीं मिल पाती है और कुछ की थोडी सी मेहनत ही ऎसा रंग लाती है कि प्राप्त सफलता पर...
जानिए प्रशासनिक सेवा अधिकारी (कलक्टर)बनने के ज्योतिष योग/करक------ आज जीवन के हर मोड़ पर आम आदमी स्वयं को खोया हुआ महसूस करता है। विशेष रूप से वह विद्यार्थी जिसने हाल ही में दसवीं या बारहवीं की परीक्षा उत्तीर्ण की है, उसके सामने सबसे बड़ा संकट यह रहता है कि वह कौन से विषय का चयन करे जो उसके लिए लाभदायक...
क्या करें परीक्षा में अच्छे नंबर पाने के लिए..??? पढ़ाई में अव्वल हो, अच्छे नंबर आएं, परीक्षा में सफलता मिले वगैरह-वगैरह, ऐसी चाहत हर विद्यार्थी की होती हैं। लेकिन कभी-कभी मेहनत के बावजूद कुछ छात्र असफल भी हो जाते हैं। अगर आप भी परीक्षा में सफल होना चाहते हैं, तो मेहनत के साथ-साथ कुछ सामान्य उपाय करके शिक्षा के क्षेत्र...
इन बातों/चीजों का रखें ध्यान होली खेलते समय और जानिए की केसे छुडाएं रंग---- रंगों का त्योहार होली की खुमारी धीरे-धीरे लोगों पर चढऩे लगा है। हिंदू पंचाग के अनुसार, फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाने वाला होली का त्योहार वसंत पंचमी से ही आरंभ हो जाता है। दरअसल इसी दिन साल में पहली बार अबीर और गुलाल...
आइये जाने होली और होलिका दहन क्या हें एवं इस दिन धन प्राप्ति के उपाय क्या करें..----- भारत त्योहारों का देश है. यहां एक त्योहार कई संस्कृ्तियों, परम्पराओं और रीतियों की झलक प्रस्तुत करता है. होली शीत ऋतु के उपरांत बंसत के आगमन, चारों और रंग- बिरंगे फूलों का खिलना होली आने की ओर इशारा करता है....
होली क्या हें..??? होली के दिन क्या करें और क्या न करें....??? होली आनन्द और उल्लास का वो पर्व है जो सारे देश में किसी न किसी रूप में मनाया जाता है | बंगाल को छोड़ कर पूरे देश में होली जलाई जाती है | बंगाल में इस दिन श्री कृष्ण की प्रतिमा को झूला झूलाने का प्रचलन है |...
आइये जाने षटतिला एकादशी का महात्म्य व कथा------ आज 19 -1 -2012 (गुरुवार ) को षटतिला एकादशी है :--- माघ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को षटतिला एकादशी कहते हैं। इस बार यह एकादशी 19 जनवरी, गुरुवार को है। षटतिला एकादशी का महात्मय पुराणों में वर्णित है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है।...
देशभक्ति की कवितायेँ ---- (पंडित दयानंद शास्त्री"नारद"/अंजाना ) आजादी के इस आँगन में , जो बारूद बिछाएगा , कसम शहीदों की वह जालिम, यहाँ नहीं रह पायेगा, अब की बरी युद्ध छिड़ा तो, विराम नहीं हो पायेगा, जहाँ गड़ेगा अमर तिरंगा, भारत ही कहलायेगा, नहीं रुकेगा नहीं झुकेगा, नहीं मिटेगा हिंदुस्तान, चाहे दुनिया मिट जाये, पर नहीं बंटेगा हिंदुस्तान....... (पंडित दयानंद शास्त्री"नारद"/अंजाना ) ================================== ये हिंद हमारा हें भारत के कोने कोने में रहने वाला...
जानिए वास्तु व जीवन में बाँसुरी की महत्वपूर्ण भूमिका---- जीवन में सुख और दुःख दोनों ही आते-जाते रहते हैं। दुःख के अनंतर सुख आता है और सुख के अनंतर दुःख आता है। इस प्रकार सुख और दुःख आपस में एक दूसरे से जुड़े रहते हैं। सुख-दुःख व दुःख-सुख की यह भाव श्रृंखला न जाने कब से चली आ रही हैं।...
जानिए वास्तु में रंगों का महत्व--- किसी भवन की ऊर्जा को संतुलित करना वास्तुं का मूल ध्येय है। ऊर्जा विज्ञान की एक उप शाखा है कम्पन विज्ञान। यदि कम्पन विज्ञान पर नजर डालें तो ज्ञात होता है कि ब्रहमाण्‍ड तो कम्पन का अथाह महासागर है। वस्तुओं की प्रकृतियां उनके कम्पनों के मुताबिक होती हैं। इस सत्य को अगरचे हम वास्तु...
आपके घर में हर दिन के कलह का कारण ---- (कहीं उत्तर दिशा में किचन/रसोईघर तो नहीं हें..???) घर में किचन सबसे महत्वपूर्ण स्थान होता है। इसे घर की आत्मा कहा जाता है क्योंकि यहीं भोजन बनता है जिससे घर में रहने वाले लोगों को आहार मिलता है। वास्तु के अनुसार उत्तर दिशा भगवान के खजांची कुबेर का स्थान होता है।...
अपनी राशि के अनुसार जानिए की किस दिशा में हो आपका स्टडी रूम/अध्ययन कक्ष--- (क्या करें उपाय परीक्षा में अच्छे नंबर लेन हेतु..???) पढ़ाई में अव्वल हो, अच्छे नंबर आएं, परीक्षा में सफलता मिले वगैरह-वगैरह, ऐसी चाहत हर विद्यार्थी की होती हैं। लेकिन कभी-कभी मेहनत के बावजूद कुछ छात्र असफल भी हो जाते हैं। अगर आप भी परीक्षा में सफल होना...
वसंत पंचमी पर करें सरस्वती मां का पूजन... मिलेगी सफलता-- मां सरस्वती की कृपा से प्राप्त ज्ञान व कला के समावेश से मनुष्य को जीवन में सुख व सौभाग्य प्राप्त होता है। इसलिए वसंत पंचमी के इस पावन अवसर पर विद्या की देवी मां सरस्वती की आराधना की जाती है। शास्त्रों में इस दिन भगवान विष्णु और कामदेव की पूजन...
वास्तु दोष निवारण में श्री गणेश(विनायक जी) का प्रभाव/महत्त्व /योगदान---- सुन्दर व अच्छा घर बनाना या उसमें रहना हर व्यक्ति की इच्छा होती है। लेकिन थोड़ा सा वास्तु दोष आपको काफी कष्ट दे सकता है। लेकिन वास्तु दोष निवारण के महंगे उपायों को अपनाने से पहले विघ्नहर्ता गजानन के आगे मस्तक जरूर टेक लें। क्योंकि आपके कई वास्तु दोषों का...

101 ways to Smile—–

0
101 ways to Smile 01. Call an old friend, just to say hi. 02. Hold a door open for a stranger.(Please be careful of thieves..... 03. Invite someone to lunch.(Make sure you cook good food..........:) 04. Compliment someone on his or her appearance. 05. Ask a coworker for their opinion on a project. 06. Bring cookies to work. 07. Let someone cut in during rush hour...
सूचना/जानकारी/इंफोर्मेशन--- ग्यारह(11 ) दिवसीय विशाल बहु उद्देशीय महासम्मेलन--- दिनांक-- 12 मार्च,2012 (सोमवार) से 22 मार्च,2012 (गुरुवार) तक स्थान-मोतीबाग प्रांगण ,मंत्रालय मार्ग,रायपुर (छत्तीसगढ़) विषय-ज्योतिष,वास्तु,हस्तरेखा,लालकिताब,टेरो,सामुद्रिक शास्त्र, आयुर्वेद ,यंत्र-मन्त्र-तंत्र,वैदिक ज्ञान/शिक्षा/भारतीय संस्कृति,कवि सम्मलेन( प्रत्येक दिन एक विषय/सब्जेक्ट को दिया जायेगा.). पंजीयन--30 जनवरी ,2012 से पूर्व अवश्य करवा लेंवे.. पंजीयन शुल्क/सहयोग राशी--मात्र 551 /- रुपये( आवास,अल्पाहार,भोजन.अंगवस्त्र,सम्मानपत्र,स्मृति चिन्ह/मोमेंटो...सहित..इसमें दो दिन की व्यवस्था हें) यह शुल्क जमा करने की अंतिम तिथि--10...
गणतंत्र दिवस पर कविता संग्रह--- भारत माता अब गणतंत्र दान दो सोए देश को एक नई पहचान दो नंगों को कपड़ा, भूखों को अन्न दो कुटिल,कामियों को बुद्धि दान दो भ्रष्ट मति को सद्भावना ज्ञान दो हमारा खोया सम्मान पुनर्दान दो मरती स्वतंत्रता को जीवनदान दो इस नवयुग को स्वाभिमान दान दो सच्चे इतिहास को स्थान-दान दो भारतवासी को गौरव-मणि दान दो भूल चुके जो अस्तित्व संस्कृति का उनको गणतंत्र का...
मेरे ब्लॉग के पाठकों,सभी सदस्य मित्रों व सभी देश वासियो को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाये ! भारतीय गणतंत्र दिवस के पावन अवसर पर आप सभी को ढेरों शुभकामनाये....HAPPY REPUBLIC DAY.... ३१ राज्य , १६१८ भाषाएँ, ६ धर्म , ६४०० जातियां , २९ प्रमुख त्यौहार , और देश ......सिर्फ एक मेरा भारत | मुझे अपने भारतीय होने पे गर्व है | दोस्तों...
राशिफल का हमारे भाग्य व भविष्य की घटनाओं पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ता है । सूर्य सिद्धांत नामक पुस्तक हमारे नक्षत्र, सितारे इत्यादि देखकर भविष्य में घटित हो सकने वाली घटनाओं का मासिक व वार्षिक आंकलन करती हैं । इन्हीं के आधार पर आपको पता चलता हैं कि आने वाला समय या माह आपके लिए शुभ होगा या अशुभ । यदि...
चन्द्रमा मन का अधिष्ठाता है। मन की कल्पनाशीलता चन्द्रमा की स्थिति से प्रभावित होती है। ब्रह्मांड में जितने भी ग्रह हैं, उन सभी का व्यक्ति के ‍जीवन पर विशेष और अत्यंत महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। मानव ने जब से काल के चिंतन का आरंभ किया, उसी समय से चन्द्रमा उसके लिए अपने घटने-बढ़ने की प्रक्रिया के कारण प्रकृति का...
वर्तमान समय में अभिनय की दुनिया में भी बहुत से युवक-युवतियाँ अपना भाग्य आजमाने के लिए प्रयास रहते हैं। बहुतों को सफलता मिलती है और बहुत से असफल भी रहते हैं। ऎसे कौन से योग होते हैं जिनके आधार पर व्यक्ति सफल रहता है। आइए जानने का प्रयास करें। फिल्म अभिनेता हो या फिर टेलिविजन के पर्दे पर काम करने...
भारतीय वैदिक ज्योतिष में जब से 12 राशियों और 27 नक्षत्रों की पहचान की गई, तब से आज तक मनुष्य ने बेशक भविष्य जानने की अनेक पद्धतियों को विकसित कर लिया हो, परंतु फिर भी नक्षत्र से भविष्य जानने की पद्धति का अपना अलग ही महत्व बना हुआ है। राशि एवं नक्षत्र के आधार पर रोगों का वर्णन भी...
जीवन और मृत्यु का शाश्वत चक्र अनादि काल से अस्तित्व में है। जीवन के बाद मृत्यु और मृत्यु के बाद जीवन की इस सतत् प्रक्रिया के मध्य कुछ अवकाश रह जाता है और इसी रिक्त स्थान में अशरीरी आत्माओं अर्थात् भूत-प्रेत, पिशाचादि के रूप में भी जीवात्मा कुछ काल व्यतीत करता है। इस काल का निर्धारण मृत्यु के प्रकार...
कुंडली में कई तरह के योग बताए गए हैं। उन्हीं में से एक योग है- ‘प्रेत श्राप योग।’ कहते हैं कि जिस भी जातक की जन्म पत्रिका में शनि-राहु या शनि-केतु की युति होती है तो इस युति को प्रेत शाप योग कहते हैं। दूसरा यह कि राहु अथवा केतु का चतुर्थ या दूसरे (कुटुम्ब स्थान) से संबंध होने...
जन्मकुंडली में सैकड़ों तरह के योग होते हैं उनमें से एक योग पिशाच योग कहलाता है जो कि राहु के कारण उत्पन्न होता है। पिशाच योग राहु द्वारा निर्मित योगों में यह नीच योग है।पिशाच योग जिस व्यक्ति की जन्मपत्री में होता है वह प्रेत बाधा का शिकार आसानी से हो जाता है।इनमें इच्छा शक्ति की कमी रहती है...
चिकित्सा विज्ञान के अनुसार गठिया रोग तब होता है जब शरीर में उत्पन्न यूरिक एसिड का उत्सर्जन समुचित प्रकार से नहीं हो पाता है। पानी में फ्लोराइड की मात्रा अधिक होने पर भी जोड़ सख्त होने लगते हैं। इससे जोड़ों के बीच स्थित कार्टिलेज घिसने लगता है और दर्द की अनुभूति होती है। आयुर्वेद के अनुसार जोड़ों में वात...
महिमा चौधरी का जन्म 13 सितंबर 1973 को दार्जिलिंग, पश्चिम बंगाल में सुबह 3 बजकर 30 मिनट पर सिंह लग्न ओर कुम्भ राशि मे हुआ था। जन्म नक्षत्र पूर्वा भाद्रपद का तृतीय चरण हैं। वर्तमान में केतु की विंशोत्तरी महादशा में बुध की अंतर्दशा चल रही है। अक्टूबर 2020 से 20 वर्ष के लिए शुक्र की महादशा आरम्भ...
हिंदू धर्म ग्रंथों में प्रकृति को देवता कहा गया है। जल, अग्नि, वायु, धरती और आकाश, इन पंचतत्वों से बने शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए भी इन पांच तत्वों की आवश्यकता होती है। इन्हीं पंचतत्वों में से एक है धरती। इस पर पाई जाने वाली समस्त वनस्पतियां, पेड़-पौधे हमारे जीवित रहने के लिए जितने जरूरी हैं, उतने...